Skip to main content

Sant Sadna

Sant Sadna


Picture Source
सदना नाम का एक कसाई था, मांस बेचता था, पर उसकी भगवत भजन में बड़ी निष्ठा थी! एक दिन सदना एक नदी के किनारे से जा रहा था, तभी रास्ते में उसे एक पत्थर पड़ा मिल गया! उसे पत्थर अच्छा लगा, उसने सोचा की बड़ा ही अच्छा पत्थर है तो क्यों ना मैँ इसे मांस तौलने के लिए उपयोग करूं.
सदना उस पत्थर को उठाकर ले आया और मांस तौलने में प्रयोग करने लगा. जब एक किलो मांस तौलता तो भी सही तुल जाता, जब दो किलो तौलता तब भी सही तुल जाता, इस प्रकार सदना चाहे जितना भी मांस तौलता , हर भार एक दम सही तुल जाता, अब तो वह एक ही पत्थर से सभी माप करता और अपने काम को करता जाता और भगवन नाम लेता जाता.
एक दिन की बात है , उसकी दुकान के सामने से एक ब्राह्मण निकले ! ब्राह्मण बड़े ज्ञानी विद्वान थे, उनकी नजर जब उस पत्थर पर पड़ी तो वे तुरंत सदना के पास आये और गुस्से में बोले – ये तुम क्या कर रहे हो? क्या तुम जानते नहीं की जिसे पत्थर समझकर तुम मांस तौलने में प्रयोग कर रहे हो वे शालिग्राम भगवान हैं, इसे मुझे दो! जब सदना ने यह सुना तो उसे बड़ा दुःख हुआ और वह बोला – हे ब्राह्मण देव, मुझे पता नहीं था कि ये भगवान शालिग्राम हैं, मुझे क्षमा कर दीजिये ! और सदना ने शालिग्राम भगवान को ब्राह्मण को दे दिया!
ब्राह्मण शालिग्राम भगवान शिला को लेकर अपने घर आ गए और गंगा जल से उन्हें नहलाकर, मखमल के बिस्तर पर, सिंहासन पर बैठा दिया, और धूप, दीप,चन्दन से पूजा की. जब रात हुई और वह ब्राह्मण सोया तो सपने में भगवान आये और बोले – ब्राह्मण – मुझे तुम जहाँ से लाए हो वहीँ छोड आओं, मुझे यहाँ अच्छा नहीं लग रहा. 
इस पर ब्राह्मण बोला –  भगवान ! वो कसाई तो आपको तुला में रखता था और दूसरी ओर मांस तौलता था उस अपवित्र जगह में आप थे. भगवान बोले – ब्राहमण आप नहीं जानते जब सदना मुझे तराजू में तौलता था तो मानो हर पल मुझे अपने हाथो से झूला झूला रहा हो, जब वह अपना काम करता था तो हर पल मेरे नाम का उच्चारण करता था. हर पल मेरा भजन करता था इसलिए जो आनन्द मुझे वहाँ मिलता था, वो आनंद यहाँ नहीं! इसलिए आप मुझे वही छोड आयें.
तब ब्राह्मण तुरंत उस सदना कसाई के पास गया ओर बोला – सदना, मुझे माफ कर दो. वास्तव में तो तुम ही सच्ची भगवान भक्ति करते हो. ये अपने भगवान को संभालिए!

 

Comments

Popular posts from this blog

Origin of Chamar

चमार मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
चमार कुल जनसंख्या१.१ % ख़ास आवास क्षेत्रभारत • पाकिस्तान भाषाएँहिन्दी, बंगाली, मराठी, पंजाबी, उर्दू आदिअन्य सम्बंधित समूहरामदासिया, रविदासिया, जुलाहा, आदिचमार अथवा चर्मकार भारतीय उपमहाद्वीप में पाई जाने वाली जाति समूह है। वर्तमान समय में यह जाति अनुसूचित जातियों की श्रेणी में आती है। यह जाति अस्पृश्यता की कुप्रथा का शिकार भी रही है। इस जाति के लोग परंपरागत रूप से चमड़े के व्यवसाय से जुड़े रहे हैं। संपूर्ण भारत में चमार जाति अनुसूचित जातियों में अधिक संख्या में पाई जाने वाली जाति है, जिनका मुख्य व्यवसाय, चमड़े की वस्‍तु बनाना था । संविधान बनने से पूर्व तक इनकोअछूतों की श्रेणी में रखा जाता था। अंग्रेजों के आने से पहले तक भारत में चमार जाति के लोग बहुत धनवान थे परन्तु चमड़े का कार्य करने से छूआछूत के शिकार थे । आजादी के बाद इनके साथ हो रहे छूआछूत को रोकने के लिए इनको भारत के संविधान में अनुसूचित जाति की श्रेणी में रखा गया तथा सभी तरह के ज़ुल्‍मों तथा छूआछूत को प्रतिबंधित कर दिया गया। इसके बावजूद भी देश में कुछ जगहों पर इन जातियों तथा अन्‍य अनु…

Dalit in Cricket

क्रिकेट











लेख सूचनाक्रिकेट पुस्तक नाम हिन्दी विश्वकोश खण्ड 3 पृष्ठ संख्या 200 भाषा हिन्दी देवनागरी संपादक सुधाकर पांडेय प्रकाशक नागरी प्रचारणी सभा वाराणसी मुद्रक नागरी मुद्रण वाराणसी संस्करण सन्‌ 1976 ईसवी उपलब्ध भारतडिस्कवरी पुस्तकालय कॉपीराइट सूचना नागरी प्रचारणी सभा वाराणसी लेख सम्पादक परमेश्वरीलाल गुप्त क्रिकेट एक अति प्रसिद्ध अंग्रेजी खेल। इस खेल का प्रचार 13 वीं शती में भी था, यह उस समय के एक चित्र को देखने से ज्ञात होता है। उसमें लड़के क्रिकेट खेल रहे हैं। 16वीं शताब्दी से तो निरंतर पुस्तकों में क्रिकेट की चर्चा प्राप्त होती है। कहा जाता है, इंग्लैंड का प्रसिद्ध शासक ऑलिवर क्रॉमवेल बचपन में क्रिकेट का खिलाड़ी था।
क्रिकेट का पुराना खेल आधुनिक खेल से भिन्न था। प्रारंभ में भेंड चरानेवाले लड़के क्रिकेट खेला करते थे। वे पेड़ की एक शाखा काटकर उसका बल्ला बना लेते थे, जो आजकल की हॉकी स्टिक से मिलता जुलता था। वे कटे हुए किसी पेड़ के तने (stump) के सामने खड़े होकर खेलते थे या अपने घर के छोटे फाटक (wicket gate) को आउट बना लेते थे। आजकल के क्रिकेट में न तो पेड़ के तने (stump) हैं और…

Dalit Officers

Case of an IAS Topper


Fate of a Scheduled Caste Candidate
A.K.BISWAS


The Union Public Service Commission under the Constitution of free India started functioning from January 26, 1950. The The Union Public Service Commission Commission conducted its first examination to recruit personnel for the IAS and Central Services the same year. There were 3,647 candidates for this examination. The First Report of the UPSC does not mention the number of Scheduled Caste or Scheduled Tribe candidates. But it discloses that Achyutananda Das was the country's first SC to make it to the IAS in 1950 itself. He was, in fact, the topper of his batch in the written examination.


Achyutananda Das, from West Bengal, secured 613 (58.38 per cent) out of 1050 marks in written examination whearas N. Krishnan from Madras secured 602 (57.33 per cent). But in the interview, Krishnan secured 260 (86.66 per cent) out of 300 as against 110 (36.66 per cent) by Achyutananda Das. Thus Achyutananda was left miles behin…